अनहद नाद की शक्तिशाली विधि

दिव्य अनहद नाद के बारे में हम पिछले लेख में विस्तार से जान चुके हैं कि अनहद नाद (अनाहत नाद, ॐ, Sound of Silence) क्या है और सृष्टि के मूल को जानने में यह कितना उपयोगी है।

इस लिए आज के लेख में हम अनहद नाद की शक्तिशाली विधि के बारे में जानेंगे साथ ही इस शक्तिशाली विधि का अभ्यास करने में रखी जाने वाली सावधानियां ओर झूठे मिथकों के बारे में भी चर्चा करेंगे।

अनहद नाद की शक्तिशाली विधि

आप सबसे पहले अपनी सुविधा के अनुसार बैठकर या लेटकर विधि का प्रयोग करने का निश्चय कर ले।

चरण 1

यह आपकी लम्बे समय तक एक स्थिति में बने रहने की सामर्थ्य के ऊपर निर्भर है कि आप किस पोजीशन का चयन करते हैं।

बैठने में आप पीठ को सहारा भी दे सकते हैं इस से नाद श्रवण पर कोई असर नहीं पड़ेगा जबकि यदि आप लेटकर प्रयोग करते है तो हो सकता है आप पर नींद हावी होने लगे।

चरण 2

अब आप अपने कानों को ear muff से बंद करे ओर किसी ऐसी जगह बैठें जहा शोर आपके कानो तक बिल्कुल भी न आ पाए। अगर आप रात्रि में सोते समय अनहद नाद का प्रयोग करें तो बेहतर परिणाम मिलते हैं।

चरण 3

अब शुरू में आपको शायद कुछ दिन तक कोई आवाज न सुनाई दे या हो सकता है पहले दिन से झहिंगुर की तरह की आवाज सुनाई दे।

आप इससे सुनते रहें। धीरे धीरे आपको झींगुर की आवाज के साथ साथ कुछ अन्य आवाजे भी सुनाई देंगी मगर यह बहुत धीमी आवाजें होंगी। आप अपनी पूरी एकाग्रता से इन धीमी आवाजो को सुनते रहे।

बिल्कुल भी जोर न लगाएं वरना आपके माथे में दर्द होने लगेगा और यह अनहद नाद श्रवण में बाधा उतपन्न करेगा।

अनहद नाद की शक्तिशाली विधि का प्रयोग

चरण 4

अब जबकि आप अलग अलग मधुर आवाजो को सुन पा रहे है। अब कुछ दिनों ओर यह प्रयास जारी रखने पर आपके गले के नीचे से बिल्कुल दोनों फेफड़ों के मध्य से गुंजन या गुंजार का स्वर सुनाई देगा।

इसी आवाज को सुनते रहना है। इसे सुनते सुनते आप अनहद नाद की अनाम ध्वनि ॐ तक पंहुच जाओगे।

जिसके बाद आप अब आप नहीं रहोगे। अब आप मैं का रहसय जान चुके हैं। यदि आप 1% भी ॐ की ध्वनि सुन पाए तो इस ब्राह्मड की समस्त रहस्यमयी बातें आप की समझ मे आने लगेंगी।

चरण 5

अब आपको दिव्य अनहद नाद का रहस्य पता चल चुका है। अब आप पूरे संसार से एकरूप हो चुके हैं। इसलिए अब आपको हर पल अनहद नाद की शक्तिशाली विधि के प्रयोग के पूर्ण हो जाने से अनहद नाद का स्वर साफ साफ सुनाई देगा।

धन्यवाद, प्रणाम।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Copy link
Powered by Social Snap